अंकारा तुर्की के विदेश मंत्री ने अंकारा स्थित रूसी ऐंबैस्डर को समन किया है। तुर्की ने रूस पर आरोप लगाया है कि रूसी वॉरप्लेन ने उसकी हवाई सीमा का उल्लंघन किया है। तुर्की ने कथित रूप से इस हवाई सीमा के उल्लंघन की कड़ी निंदा भी की है। विदेश मंत्री ने कहा कि रूसी फाइटर SU-34 को तुर्की की रेडार यूनिट्स ने अपनी हवाई सीमा के उल्लंघन को लेकर चेतावनी भी दी थी।

तुर्की का कहना है कि उसने यह चेतावनी रूसी और इंग्लिश दोनों भाषाओं में दी थी। तुर्की का कहना है कि शुक्रवार को जब रूसी फाइटर प्लेन ने उसकी हवाई सीमा का उल्लंघन किया तो उसी वक्त चेतावनी दी गई थी। रूस को चेताते हुए तुर्की ने कहा था कि इसके गंभीर नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं।
तुर्की की हवाई सीमा के उल्लंघन का आरोपहालांकि रूसी रक्षा मंत्री ने तुर्की के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। रूस का कहना है कि यह अंकारा के बेबुनियाद प्रॉपेगैंडा का हिस्सा है। रूसी रक्षा मंत्रालय ने फेसबुक पर कहा, ‘सीरियाई अरब रिपब्लिक में मौजूद रूसी एयर ग्रुप के प्लेन्स से तुर्की की हवाई सीमा का किसी भी तरह से कोई उल्लंघन नहीं हुआ है।’ मंत्रालय ने कहा कि किसी भी एयरक्राफ्ट की राष्ट्रीयता रेडार से चिन्हित नहीं की जा सकती। रूस ने कहा कि ऐसा केवल दूसरे एयरक्राफ्ट के विजुअल संपर्क के जरिए ही संभव है।

तुर्की ने पिछले साल नवंबर महीने में अपनी हवाई सीमा में घुसने का आरोप लगा एक रूसी फाइटर फ्लेन को मार गिराया था। तब भी तुर्की ने कहा था कि उसने रूसी फाइटर फ्लेन का कई बार चेताया था लेकिन उसने चेतावनी को अनसुना कर दिया था। इसमें एक रूसी पायलट मारा गया था। तुर्की के इस कदम के बाद दोनों देशों में काफी तनाव की स्थिति बन गई थी। रूस ने कहा था कि उसके F-16 फाइटर प्लेन को तुर्की ने सीरियाई सीमा में मार गिराया था।

तुर्की के इस कदम के बाद रूस ने कई तरह के आर्थिक प्रतिबंध लगा दिए थे। रूस ने तुर्की से कई सामानों के आयात को बैन कर दिया था। इसके साथ ही यात्रा और कुछ टर्किश कंपनियों को रूस में बैन कर दिया गया था। रूस ने 12 बिलियन डॉलर के गैस पाइपलाइन प्रॉजेक्ट को भी निलंबित कर दिया था। नाटो के जनरल सेक्रटरी को दोनों देशों से शांति बनाए रखने की अपील करनी पड़ी थी।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें