तुर्की के विदेशमंत्री ने रोहिंग्या मुस्लिमों को लेकर बांग्लादेश से अपनी बॉर्डर खोलने को कहा है. साथ ही उन्होंने कहा कि रोहिंग्या मुस्लिमों होने वाला खर्च तुर्की वहन करेगा.

शुक्रवार को जस्टिस एंड डेवलपमेंट पार्टी (एके पार्टी) द्वारा आयोजित ईद उल अजहा समारोह में बोलते हुए, शैवसुओग्लू ने बांग्लादेश को संबोधित करते हुए कहा कि वह रोहंग्या लोगों के लिए अपने दरवाजे खोले, तुर्की सभी खर्चों का भुगतान करेगा.

उन्होंने कहा, हमने इस्लामी सहयोग संगठन की स्थापना भी की है. हम इस साल राखिने राज्य के बारे में एक शिखर सम्मेलन करेंगे. हमें इस समस्या का एक निर्णायक और स्थायी समाधान खोजने की जरूरत है.”

उन्होंने कहा कि तुर्की के अलावा कोई भी अन्य मुस्लिम देश म्यांमार में होने वाले नरसंहार के प्रति संवेदनशीलता दिखा रहा है. दुनिया में मानवतावादी सहायता के संदर्भ में, तुर्की क्रमशः 6 अरब डॉलर और 6.3 अरब डॉलर के साथ संयुक्त राज्य अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है.

इसी के साथ तुर्की के राष्ट्रपति रसेप तय्यिप एर्दोगन ने म्यांमार में मानवतावादी संकट को हल करने के लिए तीव्र प्रयास शुरू कर दिए. वे पूरे विश्व में मुस्लिम नेताओं के साथ कई फोन कॉल कर रहे हैं. एर्दोगन ने इस सबंध में ईद उल अजहा के अवसर पर 13 देशों के शासकों के साथ बातचीत की है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE