सऊदी अरब और क़तर के बीच उपजे तनाव को लेकर तुर्की के राष्ट्रपति  रेसेप तय्यिप एर्दोगान ने दोनों देशों से बातचीत के जरिए अपने मसलों को सुलझाने को कहा है.

राष्ट्रपति रेसेप तय्यिप एर्दोगान के प्रवक्ता ने सोमवार को गल्फ कॉपरेशन कौंसिल (जीसीसी) के सदस्यों के बीच वार्ता की मांग की. एर्दोगान की और से ये मांग तब की गई. जब सऊदी अरब सहित सयुंक्त अरब अमीरात, बहरीन, यमन, और मिस्र ने क़तर के साथ अपने सारे रिश्तें तोड़ लिए है.

और पढ़े -   अमेरिका और ब्रिटेन ने सीरिया में आतंकियों को दिए ज़हरीले बमः रूस

इब्राहिम कलिन ने एक लिखित बयान में कहा कि “जीसीसी के सदस्य, जिनके साथ तुर्की का सामरिक व्यापार गठबंधन है, सभी को बातचीत के माध्यम से अपनी समस्याओं को हल करना चाहिए”

कलिन ने इस घटना पर तुर्की की और से दुःख जताते हुए काह कि एर्दोगान ने तनाव को कम करने के लिए राजनयिक प्रयास शुरू कर दिए. साथ ही कहा कि यदि आवश्यक होगी तो वह हर मदद के लिए तैयार होगे.

और पढ़े -   मिस्र ने हाजियों के लिए गाजा क्रासिंग को खोला

राष्ट्रपति के सूत्रों ने कहा कि एर्दोगान ने क़तर के अमीर शेख तामिक बिन हमद अल-थानी, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, कुवैती अमीर शेख सबा अल अहमद अल जाबिर अल-सबा और सऊदी अरब के राजा सलमान बिन अब्दुलअजीज अल सऊद के साथ फोन पर बातचीत की.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE