तुर्की में सेना के एक समूह द्वारा तख़्तापलट की कोशिशों के बीच राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोग़ान ने कहा है कि जनता की एकता और समरस्ता के सामने विद्रोह विफल हो गया.

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोग़ान ने शनिवार की सुबह इस्तांबोल हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद जो कुछ घंटे तक विद्रोहियों के नियंत्रण में था, कहा कि वह लोगों के साथ हैं और वह कहीं नहीं जा रहे हैं. साथ ही उन्होंने कहा विद्रोह में लिप्त लोगों को सज़ाएं मिलेंगी. विद्रोहियों ने देश की एकता को निशाना बनाया है.

एर्दोग़ान ने इसे गुलानी समर्थकों की साज़िश बताते हुए कहा कि देश को इस स्थिति में डालने वालों का भारी कीमत चुकानी होगी. उन्होंने कहा कि तुर्क सरकार पूरी होशियारी और जनता के समर्थन से अपना काम जारी रखेगी और हम एक बार फिर अपनी क़ानूनी सरकार का काम जारी रखेंगे.

तुर्की के राष्ट्रपति ने कहा कि विद्रोह में शामिल लोगों को जान लेना चाहिए कि तुर्की पुराना तुर्की नहीं है जिसमें जो मर्ज़ी को अंजाम दें और अपना लक्ष्य प्राप्त कर लें. उन्होंने देश की तीनों सेनाओं के प्रमुखों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं आप लोगों पर विश्वास रखता हूं, आप लोगों की रक्षा करते हैं, जिन सैनिकों ने यह अंजाम दिया है वह विश्वासघाती है और एेसे लोगों की सेना में कोई जगह नहीं है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें