अमरीकी नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ट्रंप के पद सँभालने के साथ ही सऊदी अरब और इजराइल के दुसरे के काफी नजदीक आयेंगे. इन दोनों देशों के मध्य सबंध काफी घनिष्ट होंगे.

इस बात का खुलासा करते हुए इजरायली विश्लेषक एईल कहाना ने कहा कि नेतनयाहू कोशिश कर रहे हैं कि अमरीकी नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ट्रंप के पहले दौरे में ही सऊदी अरब की मदद से इजरायल के अरब देशों के साथ समझौते को लागू करें.

और पढ़े -   सयुंक्त राष्ट्र ने जारी की चेतावनी: रोहिंग्या मुसलमानों पर फिर से हो सकते हैं घातक हमले

कहाना ने बताया कि नेतनयाहू खामोशी से अपनी इस राजनीतिक योजना को आगे बढ़ा रहे है और इजरायली केबिनेट अधिकारियों की सलाह और सऊदी अरब की सहायता से अपनी इस योजना को लागू करने का प्रयास कर रहे हैं. उन्होंने आगे कहा, इजरायल, अरब देशों से अपनी घनिष्टता बढ़ा रहा है और डोनाल्ड ट्रंप के पहले दौरे में ही सऊदी अरब और अन्य अरब देशों के साथ संबंधों का विस्तार हो जाएगा.

और पढ़े -   मुस्लिम महिला का हिजाब हटाना पड़ा महंगा, देना पड़ा पुलिस को 54 लाख रु का हर्जाना

कहाना ने लिखा कि सऊदी अधिकारियों ने इजरायल के साथ अपने संबंधों के बदलाव और विस्तार के लिए काफी संदेश भेजे हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE