अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन के बीच सीरिया संकट को लेकर बातचीत हुई. दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हो गए हैं कि सीरिया में गृहयुद्ध अब लंबा खिंच गया है और इसे खत्म करने में सभी पक्षों को हरसंभव कोशिश करने की ज़रूरत है.

व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिका 3-4 मई को कजाखिस्तान के अस्ताना में होने वाली संघर्ष विराम की बातचीत में एक प्रतिनिधि भेजेगा. ट्रंप के शपथ ग्रहण के बाद से दोनों नेताओं के बीच यह कम से कम तीसरी वार्ता है.

और पढ़े -   तुर्की के विदेश मंत्री ने घाना के एक गरीब देहाती को भेजा हज पर

वाइट हाउस ने एक बयान जारी कर कहा कि दोनों राष्ट्राध्यक्षों ने नॉर्थ कोरिया में पैदा हो रही खतरनाक स्थिति से निजात पाने और इस समस्या को सुलझाने के रास्ते तलाशने के लिए फोन पर बातचीत की

अमेरिकन सिक्यॉरिटी प्रॉजेक्ट में वरिष्ठ सदस्य मैथ्यु वालिन ने ‘द इंडिपेंडेंट’ अखबार को बताया कि उत्तर कोरिया के संकट को सुलझाने में रूस काफी सकारात्मक भूमिका निभा सकता है, लेकिन इस पूरे मामले में चीन का समर्थन सबसे अहम है. चीन की ही तरह रूस भी मानता है कि उत्तर कोरिया के कारण इस पूरे क्षेत्र में अमेरिकी प्रभाव को सीमित किया जा सकता है.

और पढ़े -   सऊदी और इराक में होते मजबूत रिश्ते, जल्द खुलेंगे बसरा और नजफ में सऊदी दूतावास

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE