संयुक्त राष्ट्रसंघ ने म्यांमार के रोहिंग्या मुस्लिम बच्चों को लेकर अपनी चिंता जाहिर की. दरअसल, हज़ारों रोहिंग्या मुस्लिम बच्चे भुखमरी के शिकार है. साथ ही इनके हालात दिन-प्रतिदिन बिगड़ते ही जा रहे है.

डब्लूएफपी की जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, म्यांमार के लगभग 80000 मुसलमान बच्चे भुखमरी के कगार पर है. इन बच्चों की उम्र 5 वर्ष से कम है. ये सभी पश्चिमी म्यांमार के राख़ीन क्षेत्र से ताल्लुक रखते है.

और पढ़े -   मंसूर हादी यमन युद्ध के लंबा खिचने का मुख्य कारणः अमीराती राजदूत

रिपोर्ट में चिंता जाहिर करते हुए कहा गया कि इन बच्चों को तत्काल सहायता की आवश्यकता है अन्यथा वे सब काल के गाल में समा जाएंगे.

इसी बीच सशस्त्र बलों द्वारा अल्पसंख्यकों के खिलाफ दुरुपयोग के आरोपों की जांच करने के लिए आ रहे संयुक्त राष्ट्र के नियुक्त तीन विशेषज्ञों को म्यांमार में वीजा देने से मना कर दिया.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE