म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिमों पर हो रहे हमलों को लेकर तुर्की के राष्ट्रपति रज्जब तैयप एर्दोऑन ने विश्व समुदाय की आलोचना करते हुए कहा कि म्यांमार के मुसलमानों के कत्लेआम पर पूरी दुनिया ने चुप्पी साध रखी है.

उन्होंने कहा, ‘आपने वह स्थिति देखी है जिसमें इस समय म्यांमार और मुस्लिम हैं…आपने देखा कि कैसे घरों को जलाया गया. लेकिन मानवता म्यांमार में नरसंहार के लिए चुप रही’  तुर्की नेता ने बताया, वह रोहिंग्या मुसलमानों की मदद के लिए और अधिक करने के लिए विश्व के नेताओं पर दबाव डाल रहे है. इस सबंध में अब तक उन्होंने विश्व के 20 नेताओं के साथ चर्चा की है.

और पढ़े -   किसी को भी इस्लाम को आतंक से जोड़ने का अधिकार नहीं: एर्दोगान

एर्दोऑन ने आगे कहा कि तुर्की संयुक्त राष्ट्र आमसभा की बैठक में रोहिंग्या मुस्लिमों का मुद्दा उठाएगा. यह बैठक इस महीने के अंत में होने वाली है. ध्यान रहे पिछले सप्ताह  पूर्वोत्तर म्यांमार में हिंसा के बाद से लगभग 400 लोग मारे गए वहीँ 73,000 रोहंगियाओं ने पडोसी बांग्लादेशमें शरण ली है.

उन्होंने कहा “कुछ ऐसे नेता हैं जिनके साथ हम परिणाम प्राप्त कर सकते हैं और कुछ ऐसा है जो हम नहीं कर सकते. हर कोई एक ही संवेदनशीलता नहीं है, उन्होंने कहा”हम अपना कर्तव्य पूरा करेंगे,” उन्होंने कहा कि तुर्की इस क्षेत्र को सहायता देना जारी रखेगा.

और पढ़े -   अब्बास ने स्वतंत्र फिलिस्तीन के गठन की समयरेखा निर्धारित करने के उठाई मांग

एर्दोऑन ने शुक्रवार को ही कहा था कि पिछले सप्ताह म्यांमार में सैकड़ों रोहिंग्या की मौते क्षेत्र में मुस्लिम समुदायों का एक नरसंहार है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE