OIC-1

आर्गेनाइजेशन आफ इस्लामिक को-ऑपरेशन (OIC) ने कश्मीर हिंसा को लेकर भारत के विरोध में प्रस्ताव पारित कर पाकिस्तान को समर्थन दिया हैं.

उज्बेकिस्तान की अध्यक्षता में ताशकंद में हुई OIC के विदेशमंत्रियों की 43वें सत्र की बैठक में भारत के विरोध में ‘कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन की गंभीर स्थिति’ पर प्रस्ताव पारित किया गया. प्रस्ताव में भारत की आलोचना करते हुए कहा गया कि कश्मीरियों के आत्मनिर्णय के अधिकार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के संबंधित प्रस्तावों के अनुरूप देखा जाना चाहिए.

प्रस्ताव में संगठन ने कश्मीरी लोगों की उचित मांग का समर्थन करते हुए कहा निहत्थे कश्मीरियों की हत्या पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए भारत की निंदा की. साथ ही विदेश मंत्रियों ने कश्मीरी की आजादी की मांग को भारत द्वारा आतंकवाद से तुलना करने पर गलत बताया.

प्रस्ताव में हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद शुरू हुए प्रदर्शनों को संगठन ने कफ्र्यू के बावजूद कश्मीरियों के प्रदर्शन को भारत के खिलाफ एक जनमतसंग्रह बताया. साथ ही जम्मू कश्मीर को भारत-पाक के बीच एक मूल मुद्दा बताते हुए दक्षिण एशिया में शांति के सपने को साकार करने के लिए इसका हल जरूरी बताया.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें