1942 में फ्रांस में यहूदियों की बड़े पैमाने पर गिरफ्तारी के शिकार लोगों की याद ने इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याह पेरिस पहुंचे. हालांकि इस दौरान उन्हें बड़े पैमाने पर विरोध का सामना करना पड़ा.

दरअसल, मैक्रॉन ने नेतन्याहू को 75 साल पहले नाजी शिविरों में से फ्रांसीसी यहूदी लोगों को सामूहिक रूप से निकालने के लिए रविवार को स्मरणोत्सव में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित किया था.

वह वेल डे हिस्ट स्मारक में भाग लेने वाले इजरायल के पहले प्रधानमंत्री हैं. इस दौरान नेतन्याहू ने कहा,”मैं पीड़ितों का शोक मनाने के लिए यहां आया हूं,”

इसी बीच, फ्रांसीसी कार्यकर्ताओं ने इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की पेरिस दौरे के खिलाफ से योजनाबद्ध तरीके विरोध प्रदर्शन रैली शुरू आयोजित की. साथ ही उन पर कब्जे वाले फिलिस्तीनी क्षेत्रों में मानवाधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाया.

शनिवार को प्रदर्शनकारी पेरिस में प्लेस दे ला रिपब्लिक्क स्क्वायर में इकट्ठा हुए. इस दौरान उन्होंने नेतान्याहू के चित्र वाली टी-शर्ट पहनी हुई थी. जिस पर फ्रेंच में “फासीवादी”, “हत्यारे”, “जातिवाद” और “यातनाकारी” लिखा हुआ था.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE