हैदराबाद की रहने वाली 25 वर्षीय असिमा खातून ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। असिमा खातून सऊदी अरब में घरेलू मेड के तौर पर काम कर रही थी। असिमा का परिवार उसके शव को वापस लाने के लिए इंतजार कर रहा है।

गोशिया खातून ने कहा कि, “मैंने अपनी बेटी को काम कर पैसे कमाने के लिए विदेश भेजा था। मेरी बेटी जैसे ही वहां पहुंची, उसे एक कमरे में बंद कर दिया गया। उसे खाने को खाना तक नहीं दिया गया। उन्होंने उसे बंधक बनाकर रखा और केवल शाम के वक्त ही दरवाजा खुलता था। मेरी बेटी मुझे कॉल पर रोया करती थी।”

और पढ़े -   मंसूर हादी यमन युद्ध के लंबा खिचने का मुख्य कारणः अमीराती राजदूत

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE