स्विट्जरलैंड में मुस्लिम लड़कियों का स्वीमिंग क्लास में हिस्सा न लेने के मुद्दें पर एक यूरोपीय मानवाधिकार अदालत ने मुस्लिम लड़कियों स्वीमिंग क्लास में हिस्सा लेते हुए लड़कों के साथ स्विमिंग सिखने का आदेश दिया हैं.

यूरोपीय मानवाधिकार अदालत ने कहा कि स्विट्जरलैंड के शहर बासेल के प्रशासन की ओर से मुस्लिम दंपति की दो बेटियों को रियायत देने से इंकार करना उचित है. दरअसल एक तुर्क-स्विस परिवार ने लड़कों के साथ स्विमिंग को उनकी धार्मिक आस्था के खिलाफ बताया था.

फ्रांस के स्ट्रॉसबर्ग आधारित इस अदालत ने अपने आदेश में कहा, ‘‘स्कूल सामाजिक एकीकरण की प्रक्रिया में विशेष भूमिका निभाते हैं खासकर उन स्थानों पर अहम भूमिका निभाते हैं जहां विदेशी मूल के बच्चे हैं.”

अदालत ने पाया कि बासेल के प्रशासन ने लड़कियों के माता-पिता की चिंताओं को दूर करने का पूरा प्रयास किया और यहां तक इजाजत दी कि बच्चियां पूरे शरीर के स्विमसूट ‘बुर्किनी’ में तैराकी सीख सकती हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें