rohing

म्यांमार में सुरक्षा बलों द्वारा देश के अल्पसंख्यक रोहिंग्या मुसलमानों पर किये जा रहे अत्याचार की आलोचना करते हुए यूरोपीय संघ ने रोहिंग्या मुसलमानों की दयनीय हालत पर अपनी चिंता जाहिर की हैं.

यूरोपीय संघ की ओर से जारी बयान में म्यंमार के राख़ीन प्रांत में रहने वाले रोहिंग्या मुसलमानों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए इस समुदाय के लिए मानवीय सहायता भेजे जाने की मांग की है.

हाल ही में संयुक्त राष्ट्रसंघ के एक शीर्ष अधिकारी द्वारा रोहिंग्या मुसलमानों पर म्यांमार की कारवाई को जातीय सफाया का नाम देते हुए कहा हैं कि म्यांमार सरकार पूरी तरह से रोहिंग्या मुसलमानों का खात्मा चाहती हैं.

संयुक्त राष्ट्र अधिकारी जान मैक्किसिक ने कहा कि म्यांमार की पुलिस और वहां के सीमा सुरक्षाबल 9 अक्तूबर से रोहिंग्या मुसलमानों को सामूहिक रूप से दंडित कर रहे हैं. जिसके कारण वे बांग्लादेश की सीमा पार करने को मजबूर हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें