अमरीका और रूस ने सीरिया में 27 फ़रवरी से संघर्ष विराम की घोषणा की है. समझौत शुक्रवार आधी रात से प्रभावी होगा. इस घोषणा के बाद सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद ने देश में संसदीय चुनाव कराने की घोषणा की है.

होम्स

असद की घोषणा के मुताबिक़ चुनाव इस साल अप्रैल में कराए जाएंगे. सीरिया में पिछले चुनाव चार साल पहले हुए थे. सीरिया में सक्रिय दो इस्लामी चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट और अल नुसरा फ़्रंट इस समझौते का हिस्सा नहीं हैं. अमरीकी राष्ट्रपति बराका ओबामा और रूसी राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन के बीच टेलीफ़ोन पर हुई बातचीत के बाद संघर्ष विराम समझौते की घोषणा की गई.

और पढ़े -   UAE: शेख खलीफा ने रमजान में 977 कैदियों को रिहा करने का दिया आदेश

सीरिया के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत स्टाफ़न डे मिस्तूरा ने कहा कि सबसे बड़ी चुनौती इस संघर्ष विराम को ज़मीनी स्तर पर लागू कराने की है. सहमति के मसौदे के मुताबिक़ सप्ताहांत तक अमरीकी विदेश मंत्री जॉन केरी और रूसी विदेश मंत्री की मुलाक़ात होनी है.

उधर सीरिया में हिंसा जारी है. रविवार को होम्स और दमिश्क़ पर हुई बमबारी में 140 लोग मारे गए थे. सीरिया में संघर्ष की शुरूआत के बाद से अब तक क़रीब ढाई लाख लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं क़रीब 1.1 करोड़ लोगों को विस्थापित होना पड़ा है. इनमें से 40 लाख लोगों को सीरिया छोड़कर जाना पड़ा है. (BBC)

और पढ़े -   अमेरिका के लिए सऊदी अरब सिर्फ एक दुधारू गाय की तरह: ईरान

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE