डमास्कस. सीरीया के मडाया कस्बे के हालात दिन पर दिन खराब होते जा रहे हैं. 40 हजार आबादी वाले इस कस्बे के हालात अब ऐसे है कि यहां लोग कुत्ते, बिल्ली, मिट्टी और घास का सूप पीने को मजबूर हैं.

syrian refugee crisis, madaya town

अलजज़ीरा की एक रिपोर्ट के मुताबिक भुखमरी की कगार पर पहुंचे चुके इस कस्बे की स्थिति इतनी भयावह हो चुकी है कि यहां लोगों ने भूख मिटाने के लिए घास और मिट्टी खाना शुरू कर दिया है. भुखमरी के साथ-साख कस्बे में बर्फबारी से भी लोगों को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है.

और पढ़े -   सऊदी न्याय मंत्रालय ने संयुक्त राष्ट्र के प्रायोजित तकनीकी उत्कृष्टता पुरस्कार जीता

अबु अबदुल रहमान नाम के एक स्थानीय निवासी का कहना है कि अब कस्बे में कोई बिल्ली या कुत्ता जिंदा नहीं बचा है. बल्कि भूख मिटाने के लिए पिछले कई दिनों से हम पेड़ों की पत्तियां खाने को मजबूर हैं.

इतना ही नहीं रिपोर्ट के मुताबिक, मां अपने 7 महीने के बच्चे को 10 दिन में सिर्फ एक बार दूध पिलाती है और बाकि दिन उसे नमक और पानी पिलाती है. लोग अपनी ऊर्जा बचाने के लिए सिर्फ लेटे हैं. बता दें कि अक्टूबर 2015 से इस कस्बे में खाना नहीं पहुंचा है.

और पढ़े -   फिलिस्तीन: इस्लामिक अदालत ने रमजान में तलाक पर लगाया प्रतिबंध

बता दें कि लेबनान की सीमा से लगभग 25 किलोमीटर दूर स्थित इस कस्बे में में बीते साल जुलाई से ही विद्रोहियों और बसर-अल-असद सरकार के बीच संघर्ष चल रहा है. साभार: inkhabar


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE