आतंकवाद के नाम पर सीरिया में बेगुनाहों की जान लेने का सिलसिला बादस्तूर जारी है. लेकिन दुनिया के तमाम मानवाधिकार ठेकेदारों की जुबानों पर ताले लगे हुए है.

बीते तीन महीनों में अमेरिका के नेतृत्व में किए गए हवाई हमलों में 978 बेगुनाहों की मौत हुई है. ये मौतों का आकड़ा केवल रक्का का है. इन हमलो में मरने वालो में 234 बच्चे और 163 महिलाएं शामिल हैं.

और पढ़े -   अपने मकसद के लिए इजरायल ने किया दूसरों को तबाह, क्या अब भारत की बारी ?

अमेरिका के नेतृत्व मे चल रहा ये मौत का नंगा नाच रक्का से इस्लामिक स्टेट (आईएस) को खदेड़ने के नाम पर शुरू किया हुआ है. लिए एक व्यापक अभियान शुरू किया है, जिसके मद्देनजर बीते तीन महीनों में मृतकों की संख्या बढ़ी है.

हाल ही में अमेरिकी नेतृत्व वाले बलों द्वारा किए गए हवाई हमले में कम से कम 42 लोग मारे गए थे. मारे गए लोगों में 19 बच्चे और 12 महिलाएं शामिल थे. ये सभी आम नागरिक है.

और पढ़े -   सांप्रदायिकता वैमनस्य पालने के बजाय अच्छी शिक्षा देने पर ध्यान दे भारत: नोबेल विजेता रामाकृष्णन

एक अनुमान के मुताबिक रक्का में 25 हजार नागरिक हैं. जो मौत के साए में अपनी जिंदगी गुजार रहे है. अमेरिका के विशेष दूत ब्रैट मैकगर्क का कहना है कि अभी भी इस क्षेत्र में 2 हजार आईएस लड़ाके मौजूद हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE