रोहिंग्या मुस्लिमों पर म्यांमार में जारी हिंसा को ईरान ने जातीय सफाया करार देते हुए विश्व समुदाय से आगे आकर इसे रुकवाने की मांग की है.

ईरान के विदेशमंत्री जवाद ज़रीफ़ ने गुरूवार को ट्वीट कर कहा कि इस बात की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए कि रोहिंग्या मुसलमानों का जातीय सफाया किया जाए और विश्व समुदाय ख़ामोश बैठा रहे. उन्होंने लिखा है कि इससे पहले कि बहुत देर हो जाए विश्व समुदाय को उठ खड़े होना चाहिए.

और पढ़े -   शेख सुल्तान बिन सुहिम अल-थानी ने क़तर संकट को खत्म करने के लिए बुलाई बैठक

इसी के साथ ईरान ने घोषणा की है कि अत्याचार ग्रस्त रोहिंग्या मुसलमानों की सहायता के उद्देश्य से उनके लिए सहायता सामग्री भेजे जाने के लिए तैयार है.

ईरान के रेड क्रीसेंट के प्रमुख मुर्तोज़ा सलीमी ने गुरूवार को कहा कि रोहिंग्या मुसलमानों को राहत सामग्री पहुंचाने के उद्देश्य से ईरान के विदेश मंत्रालय, रेडक्राॅस सोसाइटी और रेड क्रीसेंट के बीच समन्वय हो चुका है.

और पढ़े -   किम जोंग और डोनाल्ड ट्रम्प के बीच जारी जुबानी जंग पर रूस ने कसा तंज कहा, बच्चो की तरह लड़ रहे दोनों नेता

उन्होंने कहा कि म्यांमार की सरकार की ओर से अनुमति मिलते ही ईरान के रेडक्रीसेंट के माध्यम से इस सहायता को तत्काल भेज दिया जाएगा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE