aqsa attack

ज़ायोनियों द्वारा मस्जिदुल अक़्सा को आग लगाने की 47वीं बरसी पर फ़िलिस्तीन के वक़्फ़ व धार्मिक मामलों के मंत्री शैख़ यूसुफ़ इदईस ने कहा कि ज़ायोनी शासन, मस्जिदुल अक़सा को शहीद करने के प्रयास में लगा हुआ है.  ज़ायोनी सैनिकों का मस्जिदुल अक़्सा पर धावा, इस पवित्र स्थल को आग लगाने के अपराध से कम नहीं है.

शैख़ यूसुफ़ ने आगे कहा कि इन हमलों के संबंध में विश्व समुदाय की ख़ामोशी ने ज़ायोनियों में इस पवित्र स्थल का अनादर करने का दुस्साहस बढ़ा दिया है. उन्होंने कहा कि क़ुद्स शहर के अतिग्रहण के समय से ज़ायोनी शासन ने मस्जिदुल अक़्सा को गिराने के लिए विभिन्न प्रकार के हथकंडे अपनाए हैं.

और पढ़े -   सऊदी घटक देशों के प्रतिबंध के बावजूद क़तर और तुर्की ने शुरू किया संयुक्त सैन्य अभ्यास

शैख़ यूसुफ़ इदईस ने के अनुसार ज़ायोनी, हर महीने 50 बार से ज़्यादा मस्जिदुल अक़्सा पर हमले करते हैं. फ़िलिस्तीन के वक़्फ़ व धार्मिक मामलों के मंत्री ने इस्लामी सहयोग सगंठन सहित अन्य अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से अपील की कि मस्जिदुल अक़्सा के ख़िलाफ़ ज़ायोनी शासन की उन गतिविधियों को रुकवाने के लिए इस्राईल पर दबाव डाला जाए जिनका लक्ष्य इस पवित्र स्थल की ऐतिहासिक वास्तविकता को बदलना है

और पढ़े -   लंदन मस्जिद हमलें पर ईसाई महिला ने इमाम से मांगी माफ़ी, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

गौरतलब रहें कि 21 अगस्त सन 1969 को आस्ट्रिलियन मूल के एक ज़ायोनी “माइक रोहन” ने मस्जिदुल अक़सा में आग लगाई थी.  रविवार को इस घटना की 47वीं बरसी पर ज़ायोनी शासन ने बैतुल मुक़द्दस में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किये थे जिसके कारण यह नगर एक छावनी में परिवर्तित हो गया है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE