मिस्र के अलअज़हर विश्वविद्यालय में “फ़िक़्ह मुक़ारिन” के प्रोफेसर ने बताया कि सरकारी सुरक्षा तंत्रों ने उस केन्द्र की स्थापना के लिए सहमति दे दी है जिसका उद्देश्य इस्लामी फिरकों को एक दूसरे के नजदीक लाना है।

मिस्र की अलयौमुस्साबे वेबसाइट के अनुसार, अलअज़हर विश्वविद्यालय के फ़िक़्ह मुक़ारिन या धर्मशास्त्र के प्रोफ़ेसर शैख़ अहमद करीमा ने शनिवार को जानकारी देते हुए कहा कि फिरकों को एक दूसरे के निकट लाने वाला यह केन्द्र एक नागरिक केन्द्र है जिसका अलअज़हर विश्वविद्यालय और वक़्फ़ मंत्रालय से कोई संबंध नहीं होगा।

और पढ़े -   अमेरिकी राष्ट्रपति ने सयुंक्त राष्ट्र से रोहिंग्या के लिए 'मजबूत और तेज' कार्रवाई का आग्रह किया

शैख़ अहमद करीमा ने कहा कि इस केन्द्र की स्थापना के लिए आधिकारिक रूप से इजाज़त मिल गई है, जिसका उद्घाटन पवित्र रमज़ान के बाद होगा।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE