क़तर के विदेश मंत्री शैख़ मुहम्मद बिन अब्दुर्रहमान आले सानी ने कहा कि पूरा विवाद फर्जी खबरों के आधार पर गढ़ा गया. जिसकी कोई हकीकत नहीं है.

सऊदी अरब और उसके सहयोगी देशों पर भड़कते हुए उन्होंने कहा कि 40 दिन का वक्त गुजर जाने के बाद भी बहिष्कार करने वाले देश अपने आरोप से  संबंधित  एक भी सुबूत पेश नहीं कर पाए. ध्यान रहे क़तर पर आतंकवाद के समर्थन का आरोप है.

और पढ़े -   सयुंक्त राष्ट्र में बोले क़तर अमीर: खाड़ी संकट का हल सिर्फ बिना शर्त बातचीत

उन्होंने कहा कि उनका देश चारों देशों की ओर से पेश की गई मांगों के बारे में बातचीत के लिए तैयार है लेकिन यह वार्ता पारस्परिक सम्मान के आधार पर है और देशों की संप्रभुता का उल्लंघन करने की कोशिश न की जाए.

क़तर के विदेश मंत्री ने संकट के समाधान के लिए कुवैत की ओर से मध्यस्थता के प्रयासों की सराहना की. उन्होंने कहा कि अमेरिका भी इस संकट के कूटनैतिक समाधान के लिए समर्थन दे रहा है.

और पढ़े -   सांप्रदायिकता वैमनस्य पालने के बजाय अच्छी शिक्षा देने पर ध्यान दे भारत: नोबेल विजेता रामाकृष्णन

गौरतलब रहे कि अमेरिकी विदेश मंत्री रिक्स टिलरसन क़तर संकट के समाधान के लिए मध्यस्थता की कोशिश की लेकिन उन्हें ख़ाली हाथ लौटना पड़ा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE