रियाद / सऊदी अरब : जर्मनी के खुफिया एजेंसी बीएनडी की रिपोर्ट के मुताबिक सऊदी अरब ने अपनी वैश्विक नीति में कुछ बदलाव किया है. जर्मनी की एजेंसी बीएनडी के मुताबिक 29 साल के प्रिंस मोहम्मद सलमान के आने के बाद सऊदी की राजनीति में बदलाव आया है. एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि सऊदी अरब के रक्षा मंत्री और उप क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के कारण यमन और सीरिया में अच्छा माहौल नहीं बना रहा है. मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक बीएनडी रिपोर्ट का जर्मनी के बाहर कोई असर नहीं हुआ है.

और पढ़े -   नमाजियों पर गाड़ी चढ़ाने वाले ड्राइवर को आगे रहकर मस्जिद के इमाम ने बचाया

2016_1$largeimg211_Jan_2016_134943823

यह रिपोर्ट जब आयी तब मीडिया में पेरिस पर आतंकी हमला छाया हुआ था. बीएनडी की रिपोर्ट यह बताती है कि सऊदी अरब एक अप्रत्याशित नीति का पालन कर रहा है. इस रिपोर्ट में किंग सलमान के अति महत्वाकांक्षा को ठीक नहीं बताया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक इस वर्ष शुरू में शिया धर्म गुरु अल- निम्र के साथ 46 लोगों को सऊदी अरब में फांसी दे दी गयी. सऊदी सुन्नी बहुल देशों  को अपनी ओर आकर्षित करने की नीति अपना रहा है. अरब के इस कदम को ईरान ने एक चुनौती के तौर पर देखा.

और पढ़े -   पीएम मोदी के योग के चलते बारिश में भीगने के कारण कई बच्चें हुए बीमार

जर्मनी की उस रिपोर्ट में उन देशों के नाम भी उजागर किए गए हैं, जिसके खिलाफ सऊदी अक्रामक रुख अपनाए हुए है. पहले सऊदी ने  अलकायदा से जुड़े अल नुसरा फ्रंट और अहरार अल-शाम का साथ दिया था. बीते कुछ समय से ईरान के साथ सऊदी जानबूझकर रिश्ते खराब कर रहा है. द इकोनॉमिस्ट को दिए इंटरव्यू में प्रिंस मोहम्मद सलमान ने ईरान के साथ युद्द की आशंका को खारिज किया है. प्रिंस ने ऐसा ना होने का भरोसा भी दिलाया है. जर्मनी ने अपनी रिपोर्ट में यह चेतावनी दी है कि यदि कुछ पावर प्रिंस मोहम्मद सलमान के हाथ में आती है तो उनके अहंकार की वजह से स्थिति और बिगड़ेगी. साभार: prabhatkhaba

और पढ़े -   इस्राईली सैनिकों की गोलीबारी में फिलिस्तीनी युवक ने पाई शहादत

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE