e br

इस साल हज यात्रा पर जाने वाले सभी आजमीन-ए-हज की कलाई पर ई-ब्रेसलेट बंधा दिखेगा. सऊदी अरब के हज मंत्रालय ने कहा कि इस वर्ष 10 लाख से अधिक हाजी सुरक्षा ब्रेसलेट पहनेंगे.

सउदी अरब सरकार द्वारा हाजियों की सुरक्षा के लिए इस साल से यह नई पहल शुरू की है. ताकि हाजियों का मार्गदर्शन, उनकी पहचान, उन्हें सेवाएं प्रदान करने, उनके आवास स्थल का पता लगाने मादा मिल सकें. ये ई-ब्रेसलेट पूरी तरह से फायर प्रूफ और वाटरप्रूफ है.

और पढ़े -   रोहिंग्या समूह ने कहा – म्यांमार मुस्लिमों के नरसंहार में लगा हुआ

हज मंत्रालय ने जानकारी देते हुए कहा कि इस ब्रेसलेट से पहचान करने में आसानी होगी और सुरक्षा के नजरिए से इसका अहम रोल होगा. ई-ब्रेसलेट जीपीएस सिस्टम से जुड़े होंगे. इसके अलावा इनमें हर हज यात्री का नाम पता और मेडिकल रिकॉर्ड की जानकारी दर्ज होगी. इसमें जीपीएस होने की वजह से आजमीन-ए-हज का पता भी आसानी से चल सकेगा.

और पढ़े -   क़तर का बड़ा फैसला - विदेशियों को बिना वीजा के साठ दिनों तक रहने की दी आजादी

ई-ब्रेसलेट के साथ ही हज यात्री इस बार एक मल्टी लिंगुअल डेस्क से भी जुड़े रहेंगे जो उनको उनकी भाषा में हज के दौरान अदा की जाने वाली तमाम अरकान और उनके समय की जानकारी देगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE