रियाद – कच्चे तेल की कीमतों में लगातार कमी बनी रहने के चलते तेल सऊदी अरब आर्थिक संकट में घिरता दिख रहा है। आर्थिक मुश्किलों से उबरने के लिए सऊदी अरब अब अंतरराष्ट्रीय बैंकों से कर्ज लेने की कोशिश में है। खबरों के मुताबिक सऊदी अरब अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं से 10 अरब डॉलर का कर्ज लेने पर विचार कर रहा है। बीते एक दशक में यह पहला मौका है, जब सऊदी अरब विदेशी कर्ज के जरिए इतनी बड़ी रकम जुटाने की कोशिश करनी पड़ रही है।

सऊदी अरब की सरकार ने बीते दिनों कई बैंकों को लोन की शर्तों पर बातचीत के लिए आमंत्रण दिए हैं। हालांकि बैंकों को दिए आमंत्रण में लोन की राशि का जिक्र नहीं किया गया है, लेकिन सूत्रों के मुताबिक सऊदी सरकार 10 अरब डॉलर की रकम जुटाने की कोशिश में है। हालांकि इस बारे में सऊदी अरब वित्त मंत्रालय और केंद्रीय बैंक ने किसी सवाल का जवाब देने से इनकार कर दिया। सऊदी सरकार की ओर से लोन लेने की कोशिशों से यह संकेत मिलता है कि तेल की कीमतों में लगातार कमी के चलते सऊदी अरब अब इकॉनमी को गति देने के लिए अन्य तरीकों से धन जुटाने की कोशिश में है।

बजट घाटे की भरपाई के लिए सऊदी अरब सरकार ने पहले ही घरेलू बाजार में पेट्रोलियम उत्पाद की कीमतों में 40 पर्सेंट तक का इजाफा कर दिया है। साल 2015 में 100 बिलियन डॉलर के बजट घाटे की भरपाई के लिए सऊदी सरकार ने यह आदेश दिया था। इसके अलावा आने वाले पांच सालों में पानी, बिजली और पेट्रोलियम उत्पादों पर मिलने वाली सब्सिडी खत्म करने की भी बात की जा रही है। सऊदी राजघराना इन उत्पादों की कीमत सामाजिक उद्देश्यों के चलते कम रखता रहा है। इसके अलावा वैट में बदलाव और टैक्स में इजाफे के माध्यम से भी सऊदी सरकार घाटे की भरपाई करने में जुटी है।

2014 के मध्य में जब तेल की कीमतों में गिरावट का दौर शुरू हुआ, तब अन्य खाड़ी देशों की तरह ही सऊदी अरब की सरकार ने सरकारी खजाने को खोला और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं से कर्ज लिया। सऊदी अरब के अलावा अन्य तेल उत्पादक देशों की ओर से भी अंतरराष्ट्रीय बैंकों से कर्ज लेने की पहल की जा सकती है। यह देश घरेलू स्तर पर जो कर्ज ले सकते थे, वह सीमा पूरी हो चुकी है। इसी साल जनवरी में कतर ने 5.5 बिलियन डॉलर का कर्ज लिया है। इसके अलावा ओमान सरकार ने अंतरराष्ट्रीय बैंकों से एक अरब डॉलर का ऋण लिया है।

English Summary

Due to low price of the crude oil Saudi Arabia seems to be facing economic crisis. To come over from economic crisis Saudi Arabia is trying to take loan from international banks.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें