सऊदी अरब और ईरान के रिश्ते पहले से ही तनावग्रस्त हैं। अब सऊदी अरब ने ईरान के लिए जासूसी के आरोप में 32 शिया मुसलमानों के ख़िलाफ़ मुकदमा शुरू किया है। लंदन स्थित अखबार अल हयात ने यह ख़बर दी है। आरोपियों में एक ईरानी और एक अफ़गान नागरिक भी शामिल हैं।

बता दें कि इन सभी को 2013 में गिरफ्तार किया गया था। इन गिरफ्तारियों पर सऊदी अरब में कई जगह विरोध प्रदर्शन हुआ था।

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों का नरसंहार को रोक सकता है सिर्फ ये शख्स

जिन लोगों के खिलाफ मुकदमा शुरू किया गया है, उनके विरूद्ध ईरान की खुफिया एजेंसी के लिए जासूसी करने और उसे सीक्रेट्स लीक करने का आरोप है। इन आरोपियों में कई बड़े नाम हैं।

सऊदी अरब में हाल फिलहाल पहली बार जासूसी के आरोप में केस चलाया जा रहा है। अल हयात के मुताबिक इन लोगों पर आरोप है कि उन्होंने जासूसी सेल बनाकर सऊदी अरब की सैन्य क्षमताओं के बारे में ईरानी खुफ़िया एजेंसी को जानकारी दी, इससे सऊदी अरब की राष्ट्रीय सुरक्षा के हितों को नुकसान पहुंचाया। इन सभी के खिलाफ रियाद की विशेष आपराधिक अदालत में मुकदमा चलेगा।

और पढ़े -   ट्रम्प के "फिलिस्तीन नीति" से फिलिस्तीनियो में रोष, जताया विरोध

गिरफ्तार लोगों पर ये भी आरोप है कि उन्होंने सऊदी अरब के महत्वपूर्ण आर्थिक ठिकानों पर आतंकी हमलों की साज़िश भी रची। इसके लिए कुछ आरोपियों ने कथित तौर पर ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खामेनई से भी मुलाकात की। (News24)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE