मस्जिदुल अक्सा से इजरायल की और से लगाये गए मेटल डिटेक्टरों  को हटाने के कदम को तुर्की ने अपर्याप्त करार दिया. तुर्की राष्ट्रपति ने कहा कि अल-अक्सा मस्जिद से मेटल डिटेक्टरों को हटाने का फैसला कि सही दिशा में एक कदम है, लेकिन यह मुसलमानों के लिए पर्याप्त नहीं है.

बुधवार को अंकारा में राष्ट्रपति भवन में उन्होंने कहा, इजरायल ने हर दिन जेरूसलम के इस्लामिक चरित्र को नुकसान पहुंचाया है और मुस्लिमों  की कमजोरियों का लाभ उठाने की कोशिश की.

और पढ़े -   अमेरिकी कांग्रेस: भारत और चीन में होगा युद्ध, अमेरिका के भारत से मजबूत होंगे सामरिक संबंध

उन्होंने आगे कहा, जो लोग हमारी और हमारे मुल्क की आलोचना करते है वे फिलिस्तीन, यरूशलेम या मुसलमानों के अधिकारों और हक़ की बात के समय खामोश हो जाते है. उन्होंने इजरायल से जेरूसलम कन्वेंशन के तहत मानव अधिकारों की रक्षा के सबंध में अपने दायित्वों को निभाने को कहा.

एर्दोगन ने कहा, हमें दुनिया के मुसलमानों के लिए अल-अकसा के द्वार को बंद नहीं करना चाहिए.” एर्दोगन ने यह भी कहा कि इज़राइल को ऐसी नीतियों से बचना चाहिए जो इस क्षेत्र को आग में झोंक दे और अगर वह इस दुनिया में शांति में रहना” चाहता है तो दूसरों को धमकी देना बंद कर दे. राष्ट्रपति ने कहा कि अल-अक्सा मस्जिद शांति का प्रतीक है.

और पढ़े -   मुस्लिम विरोधी सांसद ने ऑस्ट्रेलियाई संसद में बुर्का पहनकर मचाया हंगामा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE