मॉस्को। सीरिया के शहर एलेप्पो पर बुधवार को हुई बमबारी के मसले पर रूस और अमेरिका एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। इस बमबारी में शहर के दो बड़े अस्पताल तहस-नहस हो गए, उनमें बड़ी संख्या में लोग मारे गए हैं।

रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि दस फरवरी को उसके किसी लड़ाकू विमान ने एलेप्पो शहर पर बमबारी नहीं की। अस्पतालों पर बमबारी का कारनामा अमेरिका के विमानों ने किया है। इससे पहले अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन के प्रवक्ता ने बमबारी के लिए रूस को जिम्मेदार ठहराया था।

सीरिया में जारी गृहयुद्ध के बीच वहां की सरकार समर्थक सेना कुछ ही दिनों पहले रूसी हवाई हमले के साए में एलेप्पो शहर के नजदीक तक पहुंचने में सफल हुई है। इसलिए रूस पर बमबारी करने का शक गया था। लेकिन रूसी प्रवक्ता के अनुसार तुर्की की ओर से आए दो अमेरिकी ए-10 बमवर्षक विमानों ने एलेप्पो पर बमबारी की। जबकि रूसी विमानों से वहां से 20 किलोमीटर दूर बमबारी की।

और पढ़े -   पाकिस्तान की जीत पर एंकर ने मोदी के लिए किया अभद्र भाषा का इस्तेमाल कहा , डूब मरो

उसने स्पष्ट किया है कि वह केवल आईएस के ठिकानों पर ही बमबारी कर रहा है। इस बीच संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में रूस पर सरकारी सेना के समर्थन में बमबारी न करने के लिए दबाव डाला गया।

रूस कर रहा युद्ध विराम पर विचार

रूसी राष्ट्रपति के कार्यालय क्रेमलिन ने स्पष्ट किया है कि सीरिया में वह अपने हमलों को रोकने पर विचार कर सकता है। इसके लिए उचित प्रस्ताव मिले तो वह क्षेत्रीय हितों को ध्यान में रखते हुए निर्णय ले सकता है।

और पढ़े -   सऊदी अरब की मांगो की सूची के जवाब में क़तरियों ने भी की अपनी मांगो की सूची जारी

चार लाख सत्तर हजार मारे गए

पांच साल से सीरिया में चल रहे गृहयुद्ध में अभी तक 4,70,000 लोग मारे जा चुके हैं। इनमें चार लाख लोग युद्ध के दौरान हुए विभिन्न हमलों में मारे गए हैं और 70 हजार लोग भूख व विभिन्न बीमारियों के प्रकोप से मरे हैं। युद्ध में मारे गए लोगों में आतंकी संगठन आईएस द्वारा मारे गए और उनके खिलाफ विभिन्न देशों के बमबारी में मारे गए लोगों की संख्या भी शामिल है। यह जानकारी सीरिया के एक शोध संस्थान के हवाले से आई है।

और पढ़े -   कठिन परिस्थितियों में भी नहीं छोड़ा फिलिस्तीन का साथ, मुसलमानों में फैलाए जा रहे मतभेद: सीरिया

1, 20 हजार पर भुखमरी का अंदेशा

सीरिया में एक लाख बीस हजार लोगों के भूख और बीमारियों से मरने का अंदेशा पैदा हो गया है। जनवरी के मध्य से देश का बड़ा इलाका खाद्य पदार्थों और दवाओं की आपूर्ति से कटा हुआ है। इसके चलते यह खतरा पैदा हुआ है। यह बात संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में सामने आई है। (नईदुनिया)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE