Rohingya Muslims

म्यांमार की सरकार ने अब रोहिंग्या मुसलमानों से धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार भी छिन लिया हैं. सरकार ने अब रोहिंग्या मुस्लिमों पर अपने बच्चों को कुरान की तिलावत सिखाने और इस्लामिक शिक्षा पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने का फैसला किया हैं.

अरकान न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक़ दक्षिण maungdaw शहर में कई इस्लामिक टीचर्स को नोटिस दिया गया कि भविष्य में इस्लामिक शिक्षा केवल घरों में ही  दी जाएँ.

और पढ़े -   तुर्की फिलिस्तीन को देगा 10 मिलियन डॉलर की मदद, ताकि ईद पर खुशियों से महरूम न रहे कोई

साथ ही कहा गया कि अगर भविष्य में इसका उलंघन होता हैं तो टीचर्स को 10 साल की सजा भुगतने की धमकी दी गई हैं. इसके अलावा अथॉरिटीज ने अभी ये फैसला सिर्फ़ साउथ मुन्ग्दाव शहर के लिए किया है और वो आगे पूरे अरकान प्रान्त पर  करने का विचार कर रहे हैं.

गौरतलब रहें कि 2012 से म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों का नरसंहार किया जा रहा है और उनके लिए वहाँ रहना नामुमकिन के बराबर हो गया है. म्यांमार की सरकार ने कई मस्जिदों और स्कूल को पहले ही बंद कर दिया हैं.

और पढ़े -   इजराइल की रोक के बावजूद भी अल-अक्सा में 3 लाख से ज्यादा मुसलमानों ने की नमाज अदा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE