प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21 मई से ईरान की यात्रा पर हैं. अपनी इस यात्रा के दौरान मोदी ईरान से आयल और गैस सेक्टर में बड़ी डील कर सकते हैं. मीडिया में आई खबरों के अनुसार ईरान ने भारत से पहले उसके बकाया 43 हजार करोड़ रूपये लौटा के बारे में कहा हैं. प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने ईरान की बकाया राशि लोटाने की हाँ कर दी हैं.

ईरान ने कहा, पहले बकाया 46 हजार करोड़ लौटाओ, फिर होगी मोदी की यात्रा

पश्चिमी देशों द्वारा न्यूक्लियर डील के कारण ईरान पर लगाये गए प्रतिबंध को इस वर्ष जनवरी में हटा लिया गया था. प्रतिबंध हटने के बाद से ही ईरान ने भारत के साथ तेल के बकाया पेमेंट के सिस्टम को बदलकर रख दिया था. और साथ ही कच्चे तेल की भारत को मिलने वाली फ्री डिलेवरी भी समाप्त कर दी.
एस्सार ऑयल और मैंगलोर रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड (एमपीआरएल) जैसी इंडियन रिफाइनरीज पर ईरान का करीब 6.5 अरब डॉलर पेमेन्ट बकाया चल रहा है. पेट्रोलियम मिनिस्टर धर्मेंन्द्र प्रधान और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज  के ईरान के दौरे पर इस सम्बन्ध में बात की गई थी लेकिन कोई बात नहीं बन पायी थी.

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें