फिलीस्तीन के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इजरायल द्वारा स्वास्थ्य संबंधित मामलों में कानून का पालन न करने की रिपोर्ट संयुक्त राष्ट्र में भेज दी है।

मंत्रालय के प्रवक्ता ओसामा अलनजार ने फिलिस्तीन में बीमारियों और अस्पतालों के बारे में रिपोर्ट दी है और कहा है कि बीमार व्यक्ति से किसा प्रकार का व्यवहार किया जाता है इसके अलावा इजरायल के कर्मचारी बीमारों को देश से बाहर नहीं ले जाने देते हैं।

और पढ़े -   मुस्लिम विरोधी सांसद ने ऑस्ट्रेलियाई संसद में बुर्का पहनकर मचाया हंगामा

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि इजरायल ने जनवरी 2016 से जून 2017 तक अपने हमलों का सिलसिया जारी रखा हुआ है। इसी प्रकार अस्पतालों पर भी इजरायल के हमलों में वृद्धि हुई है, जो वैश्विक नियमों का खुला उल्लंघन है।

इस रिपोर्ट के अनुसार इन हमलों में एम्बुलेंस लाने की भी अनुमति नहीं होती और स्वास्थ कर्मियों के साथ नोकझोक पर भी गोलियों और आंसू गैस का इस्तेमाल किया जाता है।इसके अलावा कुछ बीमारों की गिरफ्तारी की गई जिसमें से कुछ चिकित्सकीय सेवाएं न मिल पाने के कारण उनकी मौत भी हो गई थी।

और पढ़े -   यमन युद्ध में मरने वाले 50 प्रतिशत बच्चे सऊदी हमलों में मरे: सयुंक्त राष्ट्र

फिलीस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि विश्व समुदाय इजरायल को जनेवा और विश्व नियमों का पालन करने के लिए मजबूर करे।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE