is

दो महीने के सूखे के बाद इसराइल के तीसरे सबसे बड़े शहर हैफ़ा के जंगलों में भीषण आग लग गई जिसके कारण  60 हजार से अधिक लोग बेघर हो गये हैं. इसके  अलावा हजारों लोगों की जान बचाने के लिए उन्हें सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा हैं.

इस आग से यरूशलम और पश्चिमी तट पर भी ख़तरा पैदा हो गया है. आग से बचाने के लिए फिलहाल राहत बचाव कार्य जारी है. इसराइल को शक हैं कि ये आग जान बूझकर लगाने का मामला भी हो सकता हैं. प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू ने कहा है कि ऐसे किसी आगजनी हमले को ‘आतंकवाद’ माना जाएगा.

और पढ़े -   अल-अक्सा संकट पर अरब देशों की ख़ामोशी, इराकी उलेमाओं ने की आलोचना

इस भीषण आग से इलाकें की इमारतें भी जल गई हैं. करीब 10 हजार लोगों को आग से बचाने के लिए सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया जा रहा हैं.

हालांकि आग लगने का कोई कारण अब तक पता नहीं चला हैं. वहीँ इसराइल के पुलिस प्रमुख का कहना है कि जंगल में इतनी भीषण आग जान बूझकर लगाई गई है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE