कतर के विदेश मंत्री ने गुरुवार को अपने देश की विदेश नीति में हस्तक्षेप करने को लेकर सैन्य समाधान का फैसले से इंकार किया है. हालांकि उन्होंने कहा कि “किसी को भी हमारी विदेश नीति में हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं है.”

शेख मोहम्मद बिन अब्दुल्रहमान अल-थानी ने कहा, “हम संप्रभुता के साथ एक स्वतंत्र देश हैं. जो अन्य अन्य राज्यों के हस्तक्षेप को खारिज करता है.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुसलमानों की सहायता के लिए ईरान ने तेज़ की कोशिश।

गौरतलब रहें कि हिज्बुलाह और हमास को मदद देने के आरोप सहित ईरान की प्रशंसा करने को लेकर सऊदी अरब सहित यूएई, मिस्र, यमन, बहरीन सहित कई अरब देशों ने क़तर के साथ अपने रिश्ते खत्म कर लिए है.

एक शीर्ष संयुक्त अरब अमीरात के अधिकारी ने एएफपी को बताया कि अभूतपूर्व उपायों से दोहा को दबाव में लाकर अपनी नीतियों में बदलाव करने के लिए आगे बढ़ाना है. विदेश मामलों के राज्य मंत्री अनवर गारगाश ने कहा यह नीति के परिवर्तन, दृष्टिकोण में बदलाव के बारे में है.

और पढ़े -   अमेरिका ने जारी हिंसा के बीच दी रोहिंग्‍या मुस्लिमों के लिए 3.2 अरब डॉलर की मदद

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE