कतर के अमीर शेख तामिम बिन हमद अल थानी, गुरुवार को राष्ट्रपति रसेप तय्यिप एर्दोगान से मिलने के लिए तुर्की की यात्रा पर पहुंचे.  क़तर अमीर की क़तर संकट के बाद पहली विदेश यात्रा है.

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने राष्ट्रपति कार्यालय द्वारा इस सप्ताह जारी बयान के हवाले से बताया कि इस बैठक में तुर्की और कतर के बीच के द्विपक्षीय संबंधों के साथ-साथ क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय घटनाक्रमों पर चर्चा होने की उम्मीद है.’

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों की मदद के लिए आगे आया सऊदी, शाह सलमान ने दी 15 मिलियन डॉलर की मदद

ध्यान रहे पांच जून को सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन और मिस्र द्वारा आतंकवाद के समर्थन का आरोप लगाते हुए कतर के साथ अपने कूटनीतिक संबंध तोड़े जाने के बाद तुर्की क़तर का मुख्य समर्थक रहा है.

तुर्की ने नाकाबंदी को तोड़ने के लिए कार्गो जहाजों और सैकड़ों विमानों को भोजन के साथ भी भेजा था. तुर्की का कतर में एक सैन्य अड्डा भी है. जिसे सबंध बहाली के लिए सऊदी गुट ने बंद करने की मांग की थी.

और पढ़े -   मुस्लिम पड़ोसियों ने बचाई गर्भवती रोहिंग्या हिन्दू की जान, बांग्लादेश में ली हुई है शरण

जुलाई में एर्दोगान ने संकट को कम करने के लिए सऊदी अरब, कुवैत और कतर के दौरे के साथ, खाड़ी के देशों के क्षेत्रीय दौरे की शुरुआत की थी.

लेकिन किसी सफलता के बिना उनका ये दौरा समाप्त हो गया था और अंकारा ने कुवैत के मध्यस्थता के प्रयासों के चलते अपने कदम पीछे ले लिए थे.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE