सऊदी अरब और उसके सहयोगी देशों द्वारा आतंकियों की मदद करने का आरोप लगाकर क़तर से सभी रिश्तें खत्म कर लिए गए थे. साथ ही सबंध बहाली के लिए कुवैत के जरिए क़तर को 13 मांगों क सूची सोंपी गई थी. जिससे क़तर से मानने से इनकार कर दिया था.

एक बार फिर से सऊदी गुट ने अपने कदम पीछे लेते हुए मांगों में कटोती कर दी है. अरब देशों ने, 13 शर्तें में से 7 को खत्म करके 6 कर दी हैं. 18 जुलाई को संयुक्त राष्ट्र संघ में सऊदी अरब के प्रतिनिधि अब्दुल्लाह अलमोअल्लिमी ने कहा कि क़तर पर पाबंदी लगाने वाले चार देश उससे 6 उसूलों पर अमल करने की मांग करते हैं.

और पढ़े -   रोहिंग्या संकट को लेकर म्यांमार में भेजी जा सकती है सेना, ईरान और पाक सैन्य प्रमुख में हुई बातचीत

इन मांगों में आतंकवाद व चरमपंथ से संघर्ष पर प्रतिबद्धता, आतंकवादी गुटों को पैसों की मदद पर रोक और उनके लिए सुरक्षित ठिकाना मुहैया न करना, सभी भड़काऊ कार्यवाहियों और नफ़रत व हिंसा फैलाने वाले भाषणों को पर रोक शामिल है.

गौरतलब रहें कि अरब देश पहले ही न्यूज़ चैनल अल जजीरा को बंद करने की मांग छोड़ चुके है. हालांकि अब देखना दिलचस्प होगा कि क़तर इन मांगों पर क्या प्रतिक्रिया देता है.

और पढ़े -   कुर्दिस्तान के रूप में दूसरा इजरायल बनाने की साजिश, समर्थकों ने लहराए इजरायली झंडे

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE