सऊदी अरब सहित यमन, मिस्र, बहरीन, सयुंक्त अरब अमीरात द्वारा क़तर से रिश्तें तोड़े जाने के बावजूद तुर्की ने क़तर के साथ सयुंक्त सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया है.

क़तर के विदेश मंत्रालय स्पष्ट किया कि इस संयुक्त सैन्य अभ्यास का उद्देश्य, हर प्रकार के ख़तरे का मुक़ाबला करना है. हाल ही में तुर्की सैनिकों की एक खेप क़तर की राजधानी पहुंची थी.

और पढ़े -   रोहिंग्या नरसंहार के चलते ब्रिटेन ने म्यांमार सेना को दी जाने वाली मदद पर लगाई रोक

क़तर के विदेशमंत्री ने हाल में कहा था कि उनका देश सऊदी अरब और उसके सहयोगियों की साज़िशों का डटकर मुक़ाबला करेगा. साथ ही प्रतिबंध न हटने की स्थिति में बातचीत में भी इनकार किया था.

वहीँ तुर्की सऊदी अरब की इस कारवाई को इस्लामिक सिद्धांतों के खिलाफ करार दे चूका है. तुर्की ने बातचीत के जरिये इस मामले को सुलझाने के लिए मध्यस्था की भी पेशकश की है.

और पढ़े -   रोहिंग्या हिंसा पर दलाई लामा ने सु को लिखा पत्र, दिया, बुद्ध का हवाला देकर हिंसा रोकने की मांग की

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE