al waleed

कथित भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार राजकुमारों, मंत्रियों और अन्य लोगों की संपति को सऊदी हुकूमत ने जब्त करना शुरू कर दिया है. अलअरबिया डॉट नेट के अनुसार सऊदी अरब की संस्कृति व सूचना मंत्रालय के तहत अंतर्राष्ट्रीय सऊदी मीडिया केंद्र ने कहा है कि भ्रष्टाचार के मामलों में वसूल की जाने वाली राशि को राज्य के कोषागार में जमा करा दिया जाएगा.

ध्यान रहे भ्रष्टाचार निरोधक अभियान के तहत 11 राजकुमारों, चार मंत्रियों और दर्जनों पूर्व मंत्रियों को हिरासत में लिया गया है. इनमे अंतराराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त अरबपति बिज़नसमैन अलवलीद बिन तलाल भी शामिल हैं. इसके अलावा  राजकुमार मीताब बिन अब्दुल्ला (नेशनल गार्ड के पूर्व मंत्री), प्रिंस तुर्की बिन अब्दुल्ला (रियाद के पूर्व राज्यपाल), राजकुमार तुर्की बिन नस्सेर, वालेद इब्राहिम (एमबीसी मीडिया कंपनी के मालिक), खलीद अल तुवाजीरी (रॉयल कोर्ट के पूर्व राष्ट्रपति), एडेल फाकिह (पूर्व लेबर मंत्री और वर्तमान अर्थव्यवस्था और नियोजन मंत्री), ओमर दबाघ (जनरल इंवेस्टमेंट अथॉरिटी के पूर्व अध्यक्ष), सालेह कमल (अरबपति), सऊद अल-टोबाशी (रॉयल समारोहों और प्रोटोकॉल के पूर्व प्रमुख), इब्राहिम अल-असफ (पूर्व वित्त मंत्री और वर्तमान राज्यमंत्री), बकर बिन लादिन (बिन लादिन ग्रुप के मालिक), सऊद अल-डेविस (सऊदी दूरसंचार कंपनी के पूर्व सीईओ) और खालिद अल-मुल्हेम (सऊदी अरब एयरलाइंस में पूर्व महानिदेशक) शामिल है.

प्रिंस अलवलीद बिन तलाल:

दुनिया के 25वें सबसे अमीर व्यक्ति प्रिंस अलवालिद की गिरफ्तारी के बाद से ही पूरे सऊदी अरब में हड़कंप मचा हुआ है. कई बड़ी कंपनियों में निवेश कर चुके प्रिंस अलवालीद का जन्म 1955 में हुआ था. वह सऊदी अरब के पहले किंग के पोते हैं.  लंदन के सेवॉय होटल के मालिक प्रिंस अलवलीद बिन तलाल की गिरफ्तारी के बाद 9.9 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई. उन्होंने ट्विटर और एप्पल के अलावा, सिटी ग्रुप बैंक, फोर सीज़न्स होटलों और रूपर्ट मरडॉक की कंपनी न्यूज़ कॉर्पोरेशन में अलवलीद बिन तलाल की कंपनी ने निवेश कर रखे हैं.

प्रिंस अलवलीद बिन तलाल का अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से विवाद

अमेरिका के राष्ट्रपति पद के चुनाव प्रचार के दौरान मुस्लिमों के खिलाफ बेहुदे बयानों के चलते तलाल ने ट्रंप को खरी-खरी सुनाई थी. उन्होंने कहा था, “आप ना केवल रिपब्लिकन नेशनल कमिटी के लिए बल्कि पूरे अमरीका के लिए अपमान के समान हैं. आप राष्ट्रपति पद की दौड़ से अपना नाम वापस ले लें क्योंकि आप कभी जीत नहीं सकेंगे.”

इसके जवाब में ट्रंप ने कहा, “झूठे राजकुमार अपने पिता के पैसों से हमारे अमरीकी राजनेताओं को अपने काबू में करना चाहते हैं. लेकिन मैं राष्ट्रपति बन गया तो ऐसा नहीं होगा.”

आप को बता दे कि 1991 से 95 के बीच आर्थिक रूप से जूझ रहे ट्रंप की प्रिंस ने उनके yatch खरीद कर मदद की थी. हालांकि अब ट्रंप ने राजकुमारों की गिरफ्तारी पर क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की तारीफ़ करते हुए कहा कि “वे जानते हैं कि वह लोग क्या कर रहे हैं। उनमें से कुछ लोग जिनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है, वह लोग वर्षों से अपने देश का शोषण कर रहे थे.”


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE