तुर्की में ईरानी मीडिया सक्रिय सईद करीमियान की हत्या में सुरक्षा संस्थाओं की सहकारिता सईद करीमियान जो अपने माता पिता के कहने पर मुजाहेदीन ख़ल्ख़ ईरान से जुड़ा था, ने इस संगठन के मीडिया सेल से जुड़ कर इराक़ में अपनी गतिविधियां आरम्भ कीं। मीडिया और प्रचार के क्षेत्र में करीमियान की महारत ने ईरान की आवाज़ (अमरीका में ईरान विरोधियां का प्रमुख चैनल) की संगठनात्मक विकास के चरण में तीव्रता ला दे।

कुछ समय बाद करीमियान गुलाम रज़ा फराहानी नाम के एक व्यक्ति से मिलता है जिसके बाद मुजाहेदीन ख़ल्क़ ईरान और तुर्की ख़ुफ़िया विभाग की सहायता से 2006 में GEM TV चैनल को आन एयर किया जाता है। इस चैनल का प्रमुख कार्य ईरान में मौजूद कलाकारों को आकर्षित करना ईरान से बाहर सांस्कृतिक और राजनीतिक विपक्षियों से संपर्क साथना और ईरान में सरकार गिराने के लिए एक चैनल तैयार करना है। GEM TV की सफ़लता और उसके 48 वर्षीय संस्थापक की अभिमान के बाद मुजाहेदीन ख़ल्क़ और करीमियान के बीच मतभेद पैदा हो जाते हैं और इस चैनल की चलाने की तरीक़ और प्रबंधन पर दोनों में मतभेद हो जाता है।

इसी बीच सईद करीमियान अपने एक रिश्तेदार के माध्यम से ईरान की इंटेलीजेंस की हत्थे चढ़ जाता है और वह इंटेलीजेंस को विदेश में मौजूद विरोधियों, कलाकारों, और इस चैनल की सहकारिता वाले व्यापारियों की यहांतक की ईरानी सरकार के विरुद्ध कार्य कर रहे विदेशों में मौजूद ईरानियों की सूचना दे देता है। करीमियान और ईरानी इंटेलीजेंस के बीच जारी इस सरकारिता के बारे में दो साल पहले तुर्की के खुफिया विभाग को पता चल जाता है और वह ईरान में मौजूद मुजाहेदीन ख़ल्क़ के सदस्यों को इससे सूचित करते हैं। करीमियान के इस कार्य से नाराज़ मुजाहेदीन ख़ल्क़ ने करीमियान को रास्ते से हटाने का प्लान बनाय लिया था।

सईद करीमियान पिछले कुछ महीनो में नामालूम कारणों से सुरक्षा लेकर घर से निकलने लगा था यहां तक कि उसकी हत्या के लिए मुजाहेदीन ख़ल्क को सही मौक़ा मिल गया। यह स्पष्ट है कि सईद करीमियान को एक सैन्य क्षेत्र में निशाना बनाया गया और हत्यारे ने पूरी इत्मीनान से उसको 27 गोलिया मारीं ताकि उसके मर जाने का विश्वास हो जाए और उसके बाद भागते समय घटना स्थल से कुछ दूर अपने जीप को आग लगा दी ताकि पुलिस की छानबीन में पकड़ा न जा सके।

ध्यान देने वाली दूसरी बात यह है कि हत्यारों ने कई गोलियां मारने के बाद उसके सर में भी दो गोलियां मारी, इनती अधिका मात्रा में गोलियां मारा जाना दिखाता है कि हत्ये मुजाहेदीन ख़ल्क़ ईरान के संपर्क में थे और यह संगठन तुर्की खुफ़िया विभाग की सहायता से करीमियान को रास्ते से हटाने के फिराक़ में था।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE