ओटावा: कैंसर से पीड़ित एक छात्र ने अस्पताल में इलाज के दौरान इच्छा जताई कि उसे कनाडा का प्रधानमंत्री बनना है। जब वो इलाज के बाद ठीक होकर आया तो उस इच्छा को शायद भूल भी गया जो उसने अस्पताल में जाहिर की थी।  लेकिन कनाडा की मेक-ए-विश संस्था उसकी इच्छा को नहीं भूली और आखिरकार भारतीय मूल के प्रभजोत लखनपाल को एक दिन के लिए कनाडा का प्रधानमंत्री बनने का मौका मिला।

पूरा हुआ भारतीय मूल के बच्चे का सपना, एक दिन के लिए बना कनाडा का PM

इस मौके को लेकर 19 वर्षीय प्रभजोत लखनपाल ने कहा कि बतौर प्रधानमंत्री ओटावा में पार्लियामेंट हिल जाना उसके लिए अदभुत था। किसी भी और देश में ऐसा नहीं हो सकता और उसके लिए यह एक खूबसूरत सपने जैसा था।
प्रभजोत ने कहा कि वो आगे आसुड लॉ स्कूल में कानून की पढ़ाई कर राजनीति में आना चाहता है ताकि वो देश की सेवा कर सके। कनाडा की मेक-अ-विश फाउंडेशन को धन्यवाद बोलते हुए उसने कहा कि मेक-अ-विश ने उसका सपना पूरा कर दिया। प्रभजोत के पिता सुरेंदर लखनपाल ने कहा कि परबजोत के इलाज के ढाई साल के बाद उसे एक दिन सूचित किया गया कि मेक-अ-विश फाउंडेशन ने उनके बेटे की इच्छा को पूरा करना मंजूर कर लिया है।

और पढ़े -   डोकलाम विवाद से उपजे तनाव के लिए चीन ने ठहराया पीएम मोदी को जिम्मेदार: चीन

फिर लखनपाल अपनी पत्नी और प्रभजोत को लेकर ओंटारियो के लिए रवाना हुए। टोरंटो एयरपोर्ट पर पहुंचने पर उन सबका स्वागत किया। पूरे काफिले और लाव-लश्कर के साथ उनके परिवार को पार्लियामेंट स्ट्रीट के पास मौजूद होटल चतेऊ लौरियर लाया गया। प्रभजोत को प्रेसिडेंटियल सुईट में ठहराया गया और एक अलग कमरा दिया गया। अगले दिन कनाडा के 28वें गवर्नर जनरल डेविड जॉनसन ने परबजोत का स्वागत किया। इस दौरान गवर्नर जनरल ने परबजीत के देश को विकास को लेकर उसके विचार भी सुने। प्रभजोत के परिजन भारत में पंजाब के मंडी अहमदगढ़ में रहते थे। वो 1988 में कनाडा आ गए थे। उसके पिता सुरिंदर लखनपाल ऑटो मैकेनिक हैं।

और पढ़े -   अमेरिकी कांग्रेस: भारत और चीन में होगा युद्ध, अमेरिका के भारत से मजबूत होंगे सामरिक संबंध

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE