वेटिकन सिटी: कैथोलिक ईसाईयों के सर्वोच्च धर्मगुरू पोप फ्रांसिस ने ईसाई एकता के लिए अपनी सप्ताह भर चली प्रार्थना को पूरा कर लिया। उन्होंने बाकी इसाइयों के खिलाफ कैथोलिक समुदाय द्वारा की गयी नाइंसाफी के लिए माफी मांगी है।  पिछले सप्ताह पोप ने ईसाई एकता के लिए अपनी वाषिर्क प्रार्थना को पूरा किया। उन्होंने कहा, ‘‘जो बीत चुका है उसे खत्म नहीं किया जा सकता लेकिन हम नहीं चाहते कि इतिहास का बोझ हमारे रिश्तों में जहर घोलता रहे।’’

और पढ़े -   तुर्की ने भी सऊदी अरब की क़तर में सैन्य अड्डे को बंद करने की मांग को किया खारिज

कैथोलिक ईसाईयों द्वारा की गयी नाइंसाफी के लिए पोप ने मांगी माफी

स्वीडन की यात्रा पर जाएंगे पोप
पोप ने ऐलान किया है कि वह प्रोटेसटेंट सुधार की प्रक्रिया शुरू होने की 500वीं वषर्गांठ मनाने के लिए स्वीडन की यात्रा पर जाएंगे। 31 अक्तूबर को होने वाली स्वीडन की एक दिवसीय यात्रा में पोप लुंद शहर जाएंगे जहां 1947 में लुथारान वर्ल्ड फेडरेशन की स्थापना की गयी थी। वह पोप जान पाल द्वितीय के बाद स्वीडन की यात्रा करने वाले दूसरे पोप होंगे । पोप जान पाल ने 1989 में पांच स्कैंडिनेवियाई देशों का दौरा किया था।

और पढ़े -   शिया वक्फ बोर्ड भंग करने के मामले में हाईकोर्ट ने लगाई योगी सरकार को फटकार

फ्रांसिस पोप अपने पूर्ववर्तियों के नक्शे कदम पर ही चल रहे हैं और एंजलिकन, लुथारान, आथरेडोक्स, इवैनजैलिकल और अन्य ईसाई समुदायों के साथ सुलह समझौते के प्रयासों को प्रोत्साहित कर रहे हैं । (NDTV)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE