33

फ़िलिस्तीनियो के विरुद्ध इस्राईल के अपराधों में वृद्धि के कारण अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चिंताओं में वृद्धि हो गयी है।

इस संंबंध में संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवीय मामलों के समन्यकर्ता कार्यालय ने शुक्रवार को एक बयान में फ़िलिस्तीनियों के विरुद्ध इस्राईल के व्यापक अपराधों की निंदा की और कहा कि इस्राईली सैनिकों ने पिछले सप्ताह फ़िलिस्तीन के विभिन्न क्षेत्रों में कई फ़िलिस्तीनियों को शहीद कर दिया तथा कम से कम 85 फ़िलिस्तीनियों को घायल कर दिया। ज़ायोनी सैनिकों ने इसी प्रकार पिछले एक सप्ताह के दौरान फ़िलिस्तीनियों के दसियों घरों को तबाह कर दिाय।

संयुक्त राष्ट्र संघ की इस संस्था की रिपोर्ट एेसी स्थिति में सामने आ है कि ज़ायोनी सैनिकों ने पिछले चार दिन के दौरान ग़ज़्ज़ा पट्टी की पूर्वी सीमा पर हमास की सुरंगों का पता लगाने के बहाने इस क्षेत्र पर व्यापक हमले कर रखे हैं जबकि पिछले दिन पूर्वी ख़ान यूनुस में होने वाले तोपख़ानों के हमलों में कई फ़िलिस्तीनी हताहत व घायल हुए हैं।

पिछले सप्ताह के दौरान फ़िलिस्तीन की स्थिति पर नज़र डालने से यह पता चलता है कि इस्राईली सैनिकों ने फ़िलिस्तीनियों पर अपने अत्याचार तेज़ कर दिए हैं। ज़ायोनी शासन की कार्यवाहियां इस बात की सूचक हैं कि यह शासन अपनी दमनात्मक कार्यवाहियों और विस्तारवादी नीतियों को आगे बढ़ाने के प्रयास में है और यह शासन विभिन्न सैन्य कार्यवाहियों द्वारा अपने लक्ष्य साधने के प्रयास में है।

फ़िलिस्तीनियों के विरुद्ध ज़ायोनी शासन की कार्यवाहियों पर जो जेनेवा कन्वेन्शन सहित अंतर्राष्ट्रीय कन्वेन्शनों का उल्लंघन है, पहले से अधिक विश्व समुदाय की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं।

प्रत्येक दशा में ग़ज़्ज़ा पर इस्राईल ने ताज़ा हमले करके अपनी विफलताओं पर पर्दा डालने और इस्राईल के भीतर पाय जाने वाले भीषण मतभेद से लोगों के ध्यान को भटकाने का प्रयास किया है किन्तु फ़िलिस्तीन की स्थिति इस बात की चिन्ह है कि ग़ज़्ज़ा पर हर प्रकार का हमला इस्राईल के लिए दलदल सिद्ध होगा। (AK)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें