पाकिस्तान के चर्चित समाज सेवी अब्दुल सत्तार ईधी का 92 साल की उम्र में शुक्रवार देर रात निधन हो गया. फ़ाउंडेशन के प्रवक्ता अनवर काज़मी ने बीबीसी हिंदी से उनके निधन की पुष्टि की है. अब्दुल सत्तार एधी के बेटे फैसल ईधी ने बताया कि आज दिन में सांस लेने में तकलीफ की शिकायत करने के बाद उन्हें सिंध इंस्टीट्यूट ऑफ यूरोलॉजी एंड ट्रांसप्लांटेशन में भर्ती कराया गया और जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया.

फैसल ने कहा, ‘किडनी फेल हो जाने की वजह से कुछ घंटे पहले उनकी मौत हो गई. खराब स्वास्थ्य के कारण डायलिसिस के दौरान उन्हें सांस लेने में तकलीफ का सामना करना पड़ रहा था.’ अब्दुल सत्तार  ईधी ने करीब 25 साल पहले मशहूर ईधी गांव स्थापित किया था जहां बेघर, परित्यक्त, सड़क पर रहने वाले बच्चों, बुजुर्गों को रखा जाता था. वह ईधी फाउंडेशन के अध्यक्ष थे.

फ़ैसल ने बताया कि अब्दुल सत्तार ईधी ने पच्चीस साल पहले ईधी विलेज में अपनी क़ब्र तैयार की थी. उन्हें वहीं दफ़न किया जाएगा. अब्दुल सत्तार ईधी की इच्छा के मुताबिक़ उनकी आंखें दान कर दी गई हैं. अब्दुल सत्तार ईधी ने 1957 में कराची शहर से एंबुलेंस सेवा और डिस्पेंसरी सेवा शुरू की थी.

अब्दुल सत्तार  ईधी ने करीब 25 साल पहले मशहूर ईधी गांव स्थापित किया था जहां बेघर, परित्यक्त, सड़क पर रहने वाले बच्चों, बुजुर्गों को रखा जाता था।वह ईधी फाउंडेशन के अध्यक्ष थे. उन्हें कई बार नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामित किया गया था। इस साल भी इस पुरस्कार की सूची में नामित किए गए लोगों में शामिल थे. उन्हें कई अंतरराष्ट्रीय अवॉर्ड मिल चुके हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें