sindh

पाकिस्तान के सिंध प्रांत की सरकार ने 24 नवंबर को एक नया कानून पारित कर जबरन धर्म परिवर्तन को दंडनीय अपराध घोषित किया हैं.

सिंध प्रांत की विधानसभा में पेश किए गए अल्पसंख्यक सुरक्षा विधेयक का सभी दलों ने समर्थन किया. इस कानून के पारित होने के बाद अब राज्य में जबरन धर्म परिवर्तन कराना दंडनीय अपराध होगा. अल्पसंख्यक सुरक्षा कानून के तहत, अब जबरन धर्म परिवर्तन कराने का दोषी पाए जाने पर पांच साल से आजीवन कारावास तक की सजा हो सकती है.

और पढ़े -   तुर्की सीरियाई हाजियों की मदद के लिए आगे आया

साथ ही दोषी को पीड़ितों को हर्जाना भी देना होगा. नए कानून के अनुसार, जरबन धर्म परिवर्तन कराए गए शख्स की शादी कराने वाले व्यक्ति को भी तीन साल की सजा और जुर्माना हो सकता है. वहीँ नाबालिगों के धर्म परिवर्तन को पूरी तरह गैरकानूनी घोषित किया गया है.

नए कानून के अनुसार, धर्म परिवर्तन करने वाले व्यक्ति को 21 दिन पहले इसकी सूचना देनी होगी.  सिंध विधानसभा में ये विधेयक पाकिस्तान मुस्लिम लीग के हिंदू विधायक नंद कुमार गोकलानी ने 2015 में पेश किया था.

और पढ़े -   मिस्र ने हाजियों के लिए गाजा क्रासिंग को खोला

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE