screenshot_1

उरी हमले के बाद मीडिया में खबर आई थी कि रूस ने उरी हमले से नाराज होकर पाकिस्तानी सैनिको के साथ पीओके में होने वाली जॉइंट ड्रिल को रद्द कर दिया. कुछ न्यूज़ चैनल्स ने यहाँ तक खबर दी थी कि रूस ने यह कदम भारत के कहने पर उठाया हैं.

लेकिन अब पाकिस्तानी सुरक्षाबलों के मीडिया विंग के इंटर सर्विस पब्लिस रिलेशंस के डीजी (ISPR)लेफ्टिनेंट जनरल आसिम सलीम बाजवा ने ट्वीट कर कहा कि ,’रूसी सेना की एक टुकड़ी पाकिस्तान और रूस की पहली जॉइंट ड्रिल के लिए पहुंच चुकी है.’ इस मिलिटरी एक्सरसाइज में लगभग 200 रूसी सैनिक हिस्सा लेंगे.

पीओके में होने वाला ये युद्ध अभ्यास दो हफ्ते तक चलेगा. दोनों देशो ने इसे ‘फ्रेंडशिप 2016’ नाम दिया हैं. रूस में पाकिस्तानी ऐंबैस्डर काजी खलीलुल्लाह ने पिछले हफ्ते कहा था कि संयुक्त अभ्यास का संदेश साफ है- दोनों देश आपस में मिलिटरी और टेक्निकल सहयोग बढ़ा रहे हैं.

ये खबर सामने आने के बाद मोदी सरकार की विदेश नीति पर सवाल उठाना लाज़मी हैं क्योंकि रूस भारत के पुराने खास दोस्तों में से रहा हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें