पाक अधिकृत कश्मीर पर भारत के दावे को ब्रिटिश सांसद रॉबर्ट जॉन ब्लैकमैन ने भी न सिर्फ दोहराया है, बल्कि केंद्र सरकार से आवाह्न भी किया है कि वह भारत की संसद में पाक अधिकृत कश्मीर को छुड़ाने के लिए पारित किए गए संकल्प पर अमल करना चाहिए।

जम्मू-कश्मीर की यात्रा पर पहली बार आए रॉबर्ट ने कहा कि कश्मीर समस्या का एक मात्र हल यही है कि उसे पूरी तरह से भारत को सौंप दिया जाए। उन्होंने कहा, ‘सबसे पहले तो पाकिस्तान के कब्जे से जम्मू-कश्मीर के अधिकृत क्षेत्र को छुड़ाना होगा, ताकि राज्य की 1947 से पहले की स्थिति बन सके। इसके बाद इसे पूरी तरह से लोकतांत्रिक भारत का अभिन्न हिस्सा बना देना चाहिए और यही कश्मीर समस्या का हल है और इसके जरिए ही दक्षिण एशिया में शांति स्थापित हो सकती है।’

गौरतलब है कि 22 फरवरी 1994 को भारतीय संसद ने एकमत से पाकिस्तान द्वारा कब्जाए गए कश्मीर को छुड़ाने के लिए संकल्प पारित किया था। संकल्प में यह स्पष्ट किया गया था, ‘जम्मू-कश्मीर राज्य अभिन्न भारत का हिस्सा था, है और रहेगा। इसे देश के बाकी हिस्सों से अलग करने के किसी भी तरह के प्रयासों से निपटने के लिए हरसंभव उपाय किए जाएंगे। पाकिस्तान को भारतीय राज्य जम्मू-कश्मीर को तुरंत छोड़ देना चाहिए, जिसे उन्होंने जबरन कब्जा रखा है।’

ब्रिटेन की कंज़रवेटिव पार्टी से ताल्लुक रखने वाले रॉबर्ट ने इस संकल्प का जिक्र करते हुए कहा कि उसे भारतीय संसद द्वारा पारित कराए हुए 22 साल गुज़र चुके हैं लेकिन अभी तक इस दिशा में कोई भी प्रयास नहीं किया गया। उन्होंने उम्मीद जताई कि मोदी सरकार इस दिशा में कारगर कदम उठाएगी।

जम्मू में प्रेस क्लब को संबोधित करते हुए रॉबर्ट ने बताया कि पाकिस्तान कश्मीर को लेकर भारत के खिलाफ विद्वेषपूर्ण कैंपेन ब्रिटेन में भी चला चुका है। (नवभारत टाइम्स)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें