संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मामलों के राज्य मंत्री डॉ अनवर गारगाश ने कहा है कि कतर के साथ चार देशों – सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन और मिस्र की मांगों को खारिज कर देने के बाद इस समस्या का कूटनीति के जरिए समाधान किया जाएगा.

गारगाश ने कहा, “इस संकट को हल करने के लिए कूटनीति एक प्राथमिकता है, लेकिन इसके लिए क़तर को उसको व्यवहार और स्थिति को बदलना चाहिए. उसे अतिवाद और आतंकवाद का समर्थन नही करना चाहिए.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों का नरसंहार को रोक सकता है सिर्फ ये शख्स

उन्होंने जोर देकर कहा, “हम कतर में शासन परिवर्तन, लेकिन व्यवहार में बदलाव के बारे में बात नहीं कर रहे हैं. कतर के साथ आतंकवाद से निपटने के लिए कई नियम हैं. ये नियम कूटनीतिक समाधान हैं जो कतर को आतंकवाद के समर्थन के संबंध में अपना दृष्टिकोण बदलने की आवश्यकता है “

डॉ गारगाश ने कहा, मिस्र और तीन जीसीसी देशों और कतर के बीच असहमति संप्रभुता का विषय नहीं है, बल्कि उग्रवाद और आतंकवाद के लिए इसका समर्थन है.

और पढ़े -   यमन, रोहिंग्या सहित कई मुद्दों पर ईरानी राष्ट्रपति का संयुक्त राष्ट्र महासभा बैठक में विमर्श

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE