imr

भारतीय मूल के पूर्व अमेरिकी मरीन सार्जेट इमरान यूसुफ को ओरलैंडो के समलैंगिक नाइटक्लब में हुई गोलीबारी के दोरान अपनी जान जोखिम में डाल कई लोगों की जान बचाई. पल्स नाइटक्लब में बतौर बाउंसर काम कर रहे युसूफ ने अपनी जान की परवाह ना करते हुए नाइटक्लब के पिछलें रास्तें से कई लोगों को बाहर निकाला.

इमरान यूसुफ के अनुसार, नाइटक्लब में हॉल के पीछे लोग डर से चिल्ला रहे थे और मैं ‘दरवाजा खोलो’, ‘दरवाजा खोलो’ चिल्ला रहा था. डर की वजह से कोई भी वहां से हिल नहीं रहा था. उन्होंने कहा, “कोई विकल्प नहीं था. हम या तो वहीं रुके रहते और मर जाते या मैं खतरा मोल लेता और वह कुंडी खोलने के लिए कूद पड़ता.”

और पढ़े -   रोहिंग्याओं के नरसंहार को रोकना है तो म्यांमार पर लगे कड़े प्रतिबंध: ह्यूमन राइट्स वॉच

उन्होंने कहा कि मेरे फौरन हरकत में आने से 60-70 जिंदगियां बच गईं. चैनल के अनुसार, यूसुफ ने रोते हुए कहा, “काश मैं और लोगों को भी बचा सकता। बहुत से लोग मारे गए”


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE