नई दिल्ली: दुनिया के सबसे खतरनाक संगठन आईएसआईएस को अगर किसी से खतरा महसूस होता है तो वह इजरायल के कमांडों सैनिक है. इस डर की वजह से आईएसआईएस  ने मध्य एशिया के शुरुआती प्रोजेक्ट में इजरायल को अपने प्लान में नहीं रखा है.
is-took-responsibility-of-attack-on-shiyas-mosque
दस दिन गुजारने के बाद किया खुलासा
इस अहम बात का खुलासा दस दिन तक आईएसआईएस  कैंप में गुजारने वाले जर्मन के खोजी पत्रकार तोडन होफर ने किया है. बता दें कि तोडन होफरके एक बड़े खोजी पत्रकार है. जिन्होनें दुनिया के सबसे खतरनाक संगठन आईएसआईएस के कैंप में दस दिन तक गुजारने के बाद यह बात कही है.
गोरिल्ला युद्ध से खौफ खाता है आईएसआईएस
ब्रिटेन के अख़बार दि इंडिपेंडेंट के मुताबिक खोजी पत्रकार ने बताया है कि आईएसआईएस के आतंकियों को अमरीकी और बिट्रिश सैनिकों से लड़ने में कोई डर नहीं लगता. उनका मानना है कि आईएसआईएस जमीनी लड़ाई में अमरीकियों और ब्रिटिश सैनिकों को पस्त करना कोई बड़ी बात नहीं मानता है. लेकिन इजरायल के सैन्य कमांडों से गोरिल्ला युद्ध करना आसान नहीं कहता है.
आईएसआईएस के लिए असली खतरा इजरायल के कमांडों
जर्मन पत्रकार ने कहा है कि आईएसआईएस के लिए असली खतरा इजरायल के कमांडों है. और इसीलिए आईएसआईएस ने अभी तक  इजरायल की राजधानी जेरूसलम पर अब तक उसने नजर नहीं उठाई है. हालाँकि आईएसआईएस के खलीफा बगदादी इजरायल और यहूदियों को अपना बड़ा दुश्मन मानते है. इसके साथ अपने प्रचार में इजरायल पर हमले की बात भी करते हैं. लेकिन अब तक की रणनीति में बगदादी ने इजरायल पर कोई हमला नहीं बोला है.
इजरायल को दुश्मन मानता है आईएसआईएस
जर्मन पत्रकार तोडन होफर ने कहा है कि फिलिस्तीन में आईएसआईएस से जुड़े आतंकी ग्रुप सक्रिय हैं, लेकिन कोई बड़ा हमला इन ग्रुप ने इजरायल पर नहीं किया है.आईएसआईएस के कैंप में आतंकवादियों  के साथ कई दिन तक रहकर गुजारने वाले पत्रकार ने कहा है कि अलकायदा के मुकाबले आईएसआईएस एक बहुत बड़ी शक्ति है. दुनिया के कई मुल्कों को हराने में वो कामयाब हो सकती है. उधर इजरायल भी ईराक और सीरिया में हमला करने वाली अमेरिका की अगुवाई वाले सैनिक दलों में शामिल नहीं साभार: इंडिया संवाद ब्यूरो

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें