अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कट्टरपंथी इस्लाम जैसे शब्द न प्रयोग करने पर की गई आलोचना पर जवाब देते हुए कहा कि  इससे आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ाई में कोई मदद नहीं मिलेगी.

ओबामा ने इस बारे में सवाल किया कि इस प्रकार की भाषा का क्या लाभ होगा? वास्तव में इससे क्या परिवर्तन आ सकता है? क्या इससे अमरीकियों की हत्याओं के लिए दाइश के संकल्प में कोई कमी आ सकती है।

उन्होंने कहा कि मैंने अमरीका और विश्व भर में अपने मुस्लिम दोस्तों से कहा है कि हम दुनिया के महान धर्मों में से एक की ग़लत व्याख्या के विरुद्ध मिलकर लड़ेंगे। ओबामा ने ISIS के ख़तरे के मद्देनज़र आयोजित राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठक में यह बयान दिया।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें