hijab2

दुनिया भर में बड़ते इस्लामफोबिया के कारण इस्स्लामिक संस्कृति और मुसलमानों को निशाना बनाने वालें दक्षिणपंथियों ने हिजाब को गुलामी का प्रतीक बताते हुए हिजाब पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी. परिणामस्वरुप कुछ देशों में हिजाब पर प्रतिबन्ध भी लगाया गया. आधिकारिक रूप से हिजाब को प्रतिबंधित करने वालें देशों में स्विजरलैंड का पहला नाम हैं.

इसके विपरीत अब हिजाब पर अन्तराष्ट्रीय स्तर पर एक नई बहस शुरू हो गई हैं. जिसके चलते हिजाब की महत्ववता खुलकर सामने आ रही हैं. फलस्वरूप गैर इस्लामिक देशों में हिजाब को आधिकारिक रूप से अपनाया जा रहा हैं. आधिकारिक रूप से हिजाब अपनाने वालें देशों में स्वीडन का पहला नाम हैं.

हाल ही में स्कॉटलैंड, कनाडा, तुर्की के बाद अब ऑस्ट्रेलिया के ‘वेस्टपैक’ बैंक ने अपने कर्मचारियों की नई आधिकारिक पोशाक के तौर पर निगमित हिजाब को भी शामिल करने का फैसला किया है.

‘न्यूजकॉर्प’ की खबर के मुताबिक ये पोशाक मशहूर आस्ट्रेलिआई डिजाइनर कार्ला जम्पाटी द्वारा डिजाइन हिजाब वाली यूनिफार्म को अप्रैल 2017 तक लान्च किए जाने की उम्मीद है. इससे पहले कॉमनवेल्थ बैंक और ऑप्टस जैसी कुछ संस्थान कर्मचारियों की आधिकारिक पोशाक के साथ हिजाब को शामिल कर चुकीं हैं.

बैंक की प्रवक्ता ने कहा कि हल्के नीले रंग के इस हिजाब को वेस्टपैक के ‘डबल्यू’ लोगो के साथ डिजाइन किया गया है. ये लोगो, कार्यस्थल पर विविधता और अखंडता को दर्शाता है. उन्होंने कहा कि इसके जरिए हम लोगों को अपना समर्थन दिखा सकते हैं और कार्यस्थल पर अच्छा अनुभव करा सकते हैं.

सिडनी स्थित वेस्टपैक बैंक की शाखा में काम करने वाली कोनी वेहबे ने कहा कि मुझे कार्यस्थल पर हिजाब पहनना अच्छा लगता है, इससे दूसरों को मेरी संस्कृति और मेरे बारे में जानने में मदद मिलती है. उन्होंने कहा कि हिजाब दिखाता है कि वेस्टपैक सारी संस्कृतियों को पहचानता और स्वीकार करता है. मैं हिजाब को अपने आधिकारिक पोशाक के तौर पर पहनने को लेकर काफी उत्सुक हूं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें