क़तर का कहना है कि सऊदी अरब, मिस्र, यमन और यूएई सहित क़तर के खिलाफ नाकेबंदी लागू करने से क़तर का कोई नुकसान नहीं हुआ है.

क़तर के वित्तमंत्री अहमद बिन जासिम आले सानी ने  कुछ अरब देशों की ओर से क़तर पर लगाए गए प्रतिबंधों से देश को कोई क्षति नहीं हुई है. हमारी सारी परियोजनाएं अपना काम कर रही हैं तथा आर्थिक गतिविधियां जारी हैं.

और पढ़े -   अमेरिकी राष्ट्रपति ने सयुंक्त राष्ट्र से रोहिंग्या के लिए 'मजबूत और तेज' कार्रवाई का आग्रह किया

उन्होंने कहा कि सरकार ने यह सिद्ध कर दिया है कि वह प्रतिबंधों के साथ भी देश का संचालन कर सकती है.  क़तर के वित्तमंत्री के अनुसार हमारी अर्थव्यवस्था मज़बूत होने के साथ लचकदार भी है.

उन्होंने कहा कि सन 2022 के फुटबाल विश्वकप से संबन्धित काम प्रगति पर है और इसके अतिरिक्त देश के मूलभूत ढांचे के लिए जो परियोजनाएं चल रही थीं वे अपना काम कर रही हैं.

और पढ़े -   उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री बोले, ट्रम्प की धमकी कुत्ते भोकने जैसी

गौरतलब रहे कि सऊदी अरब, मिस्र, यमन और यूएई द्वारा क़तर पर प्रतिबन्ध लगाने के बाद अनुमान लगाया जा रहा था कि क़तर की अर्तव्यवस्था चरमरा जाएगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE