100 प्रतिशत की शुद्धता का दावा करने वाले रामदेव के पतंजलि के 7 प्रोडक्‍ट नेपाल सरकार ने तत्काल आदेश से बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है. साथ ही इन उत्पादों को कंपनी से वापस लेने को कहा है. दरअसल ये सभी उत्पाद  क्वालिटी टेस्ट में  फ़ैल हो गए है.

नेपाल के दवा नियामक ने रामदेव के पतंजलि की 6 आयुर्वेदिक दवाओं को परीक्षण में घटिया पाया है. जिसके बाद नेपाल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने पतंजलि से अपने इन आयुर्वेदिक दवाओं को वापस लेने को कहा है. टेस्ट में फैल होने वाले छह मेडिकल उत्पादों में दिव्या गाशर चूर्ण, बाहुची चूर्ण, आमला चूर्ण, त्रिफाला चूर्ण, अदविया चूर्ण और अस्वानगंधा शामिल हैं.

नेपाल सरकार की और से कहा गया कि दवाओं के बैच का विभाग ने प्रोडक्ट क्वालिटी टेस्ट किया था और उनमें रोगजनक बैक्टेरिया मिले. विभाग ने संबंधित पक्षों से तत्काल प्रभाव से इन दवाओं को नहीं बेचने या उनके उपयोग की सलाह नहीं देने को कहा है.

भारत में हाल ही में एक सूचना का अधिकार (आरटीआई) के जवाब में पता चला है कि यहां 40 प्रतिशत आयुर्वेद और यूनानी उत्पाद गुणवत्ताहीन हैं. इनमें पतंजलि के सामान भी शामिल हैं. पतंजलि के दिव्या अमला रस और शिवलिंगी बीज उन उत्पादों में शामिल रहे जो गुणवत्ता मानकों को पूरा करने में नाकाम रहे.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE